वाणी पर अनमोल विचार (Precious thoughts on speech) [Updated- 2022]

वाणी पर अनमोल विचार (Precious thoughts on speech)

नमस्कार पाठकों, आज के इस पोस्ट में हम “अनमोलसोच डॉट इन” पर वाणी पर आधारित महापुरुषों के अनमोल विचारों को साझा कर रहा हूँ। आशा करता हूँ आज का यह पोस्ट आपने जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लायेगा। इस लेख को पूरा पढियेगा और अंत में कमेंट की माध्यम से अपनी प्रतिक्रिया जरुर दीजियेगा। रोजाना ऐसे ही लेखों को पढने के लिए आप “अनमोलसोच डॉट इन” बिलकुल मुफ्त ईमेल सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।

वाणी पर अनमोल विचार (Precious thoughts on speech)
वाणी पर अनमोल विचार (Precious thoughts on speech)
  • जो ऐसी वाणी बोलता है कि सबके हृदय को आनंदित कर दे, उसके पास दुःखों को बढ़ाने वाली दरिद्रता कभी न आएगी।

          -तिरुवल्लुवर

  • जो इंसान तोल कर नहीं बोलता, उसे सख्त बातें सुननी पड़ती हैं।

       -सादी

  • घट-घट में वह सांई रमता, कटु वचन मत बोल रे।

       -कबीर

  • कठोर वचन बुरा है क्योंकि तन मन को जला देता है और मृदुल वचन अमृत वर्षा के समान है।

       -कबीर

  • कितना भी दुःखद विषय हो, उसकी चर्चा कठोर भाषा में नहीं करनी चाहिए।

       –महात्मा गांधी

  • कटु वचन रूपी बाण मुख से निकल कर दूसरों के मर्म स्थान पर ही चोट करते हैं, उनसे आहत मनुष्य रात दिन घुलता रहता है। अतः विद्वान पुरुष दूसरों पर उनका प्रयोग न करें।

        -वेदव्यास

  • कटु वचन कहने से अच्छा है कि खामोश रहा जाए।

       -अज्ञात

  • कड़वी बात भी हंस कर कही जाए तो मीठी हो जाती है।

       -प्रेमचंद

  • मनुष्यों के पास धन-दौलत के अंबार हो सकते हैं लेकिन बुद्धिमान मनुष्य की वाणी तो अनमोल होती है।

       -बाइबिल

  • मनुष्य की वाणी से उसके गुण और अवगुण जाने जा सकते हैं।

       -शेख सादी

  • कोमल उत्तर से क्रोध शांत हो जाता है। कटु वचन से उठता है।

      -बाइबिल

  • कटु वचन दूसरे के मर्म स्थान पर चोट करते हैं और बदले में वह श्राप देता है, जो निष्फल नहीं जाता।

        -वेद व्यास

  • बोलना हो तो उपयोगी ही बोलना उचित है। प्रसंगानुसार जो उचित हो वही बोलना चाहिए।

        -संत तुकाराम

आप पढ़ रहे हैं :- वाणी पर अनमोल विचार  Precious thoughts on speech

  • कम बोलने से मन की शक्ति बढ़ती है।

        -महात्मा विदुर

  • आप अगर स्पष्टवक्ता ही बनना चाहते हैं, तो यह कार्य सावधानी से ही करें।

       -खलील जिब्रान

  • कभी-कभी मौन रह जाना सबसे तीखी आलोचना होती है।

        -अज्ञात

  • मौन से अच्छा भाषण दूसरा नहीं। फिर भी बोलना पड़े तो जहां एक शब्द से काम चलता हो वहां दूसरा शब्द न बोलें। 

     -महात्मा गांधी

  • मौन शब्दों से भी अधिक शक्तिशाली है।

       -कार्लाइल

  • बोलना तो सज्जनों की कुल विद्या का आभास है। 

      -बाणभट्ट

  • पुरुष की शोभा न तो बाहुभूषण से, न चंद्र के समान उज्ज्वल हार से और न बालों को संवारने से, न उबटन से, न स्नान से, न पुरुषों के शृंगार से होती है, जितनी सुसंस्कृत वाणी से होती है।

       -भर्तृहरि

  • ब्राह्मण को मलिन अर्थात दोषयुक्त नहीं बोलना चाहिए। जो अपशब्द है, वह निश्चय ही मैले हैं।

        -पतंजलि

  • मधुर वचन सुनने में भी और कहने में भी प्रसन्नता देते हैं। लेकिन मधुर वचन अहंकार त्याग से ही संभव है।

       -कबीर

  • प्रिय होने पर भी जो वचन हितकर न हो, उसे न कहें। हितकर कहना ही अच्छा है। चाहे वह सुनने में अत्यन्त अप्रिय ही क्यों न हो।

         -विष्णु पुराण

  • बोलना व वाग्मिता होना एक नहीं है, बोलना और अच्छी तरह बोलना दो चीजें हैं।

         -बेन जॉनसन

  • पराक्रम तो भुजाओं में रहता है, न कि वाणी में ।

        -बाणभट्ट

आप पढ़ रहे हैं :- वाणी पर अनमोल विचार  [Precious thoughts on speech]

  • पशु न बोलने के कारण और मनुष्य बोलने के कारण कष्ट उठाते हैं।

        -लुकमान

  • बोलना शिष्टाचार है और शिष्टाचार में सच और ईमानदारी होना आवश्यक है।

        -इमर्सन

  • न्यून वाणी मूर्खो की समझ में नहीं आती और अधिक बोलना विद्वानों को उद्विगन करता है

       -धनंजय

  • थोड़ा बोलो, थोड़े शब्दों में अधिक कहो ।

       -एपोक्रिफा

  • हम जो कुछ भी बोलें, उसमें बल होना चाहिए।

      -सरदार पटेल

  • वाणी ही मानव का ऐसा आभूषण है जो आभूषणों के सदृश कभी घिसता नहीं।

      -भर्तृहरि

  • वाणी से भी बाणों वर्षा होती है। जिस पर इसकी बौछारें पड़ती हैं, वह दिन-रात दुःखी रहता है।

       -वाल्मीकि

  • वाणी समय परक होती है, मौन अनंतता परक ।

       -कार्लाइल

  • जब मन और वाणी एक होकर कोई चीज मांगते हैं, तब उस प्रार्थना का फल अवश्य मिलता है।

       -स्वामी रामकृष्ण

  • झूठा वादा करने से विनम्र इन्कार करना अच्छा है।

      -टॉलस्टाय

  • झूठ बोलना तलवार के घाव के समान है, घाव भर जाएगा, किंतु उसका निशान सदा बना रहेगा।

        -शेख सादी

  • प्रत्येक स्थान और समय बोलने के योग्य नहीं। कभी-कभी मौन वाणी से ज्यादा प्रभावी सिद्ध होता है।

      -जयशंकर प्रसाद

  • मौन के वृक्ष पर शांति के फल सदैव लदे रहते हैं।

       -अरबी लोकोक्ति

  • मौन उस अज्ञानी के लिए आभूषण है जो ज्ञानियों की सभा में जा बैठा है।

        -भर्तृहरि

  • मौन द्वारा कलह का कत्ल किया जाता है।

        -महात्मा गांधी

  • मौन और एकांत पवित्र आत्मा के सर्वोत्तम मित्र हैं।

        -विनोबा भावे

  • खामोश रहो या फिर ऐसी बात कहो, जो खामोशी से बेहतर हो।

        -पाइथागोरस

  • छिपी हुई वह बात, जो हर सभा में नहीं कही जा सके, कहना उचित नहीं है।

       -शेख सादी

  • प्रश्न का समय पर उपयुक्त उत्तर देना आनंद प्रदान करता है। उचित समय पर कही गई बात ज्यादा वजन रखती है।

      -नीति वचन

  • जीभ को जीत लेना सब वस्तुओं को जीत लेने के बराबर है।

       -महात्मा गांधी

  • हितकर किंतु अप्रिय वचन को कहने और सुनने वाले दोनों दुर्लभ हैं।

         -वाल्मीकि

  • हृदय केवल हृदय से ही बात कर सकता है क्योंकि उसके पास वाणी नहीं होती।

       -महात्मा गांधी 

  • शब्दों का सामर्थ्य भी हो जाता है। व्यर्थ, आगे पीछे कीजिए, बदल जाएगा अर्थ ।

       -काका हाथरसी

  • शब्द विचारों को बहुत साफ ढंग से व्यक्त करने में असमर्थ होते हैं। व्यक्त करने के शीघ्र बाद वे सदैव कुछ भिन्न हो जाते हैं, तो कुछ विकृत हो जाते हैं, तो कुछ मूर्खतापूर्ण लगते हैं।

        -हरमन हैस

  • शब्द तो प्रेत मात्र हैं, यदि वे हृदय की बात न करें।

        -अरविन्द

  • मधुर वचनों के होते हुए उन्हें छोड़ कर कटु वचन का प्रयोग करना, पके फलों के होते हुए कच्चे फल खाने के समान है।

       -तिरूवल्लुवर

  • शब्द बड़ी साधना से उठ पाते हैं, उन्हें गिराने की चेष्टा नहीं होनी चाहिए।

       -जैनेन्द्र

  • दूसरों के अप्रिय वचनों के बदले में मृदुल वचन कहने वाला व्यक्ति उत्तम है।

      -अज्ञात

  • जहां मनुष्य की जिह्वा बोलने में असमर्थ हो जाती है, वहां पत्थर • बोलना प्रारम्भ कर देते हैं।

      -स्वामी रामतीर्थ

आप पढ़ रहे हैं :- वाणी पर अनमोल विचार  [Precious thoughts on speech]

  • अगर किसी की कड़वी बात न सुनना चाहो तो उसका मुंह मीठा करो।

       -सादी

  • गाली से प्रतिष्ठा नहीं बढ़ती दोनों ओर अपमान है। इस दुनिया में सबसे ज्यादा कमजोर चीज, कठोर बात है।

       -शरतचंद्र

  • कठोर किन्तु हित की बात कहने वाले लोग थोड़े ही होते हैं।

      -वाल्मीकि

  • अगर झूठ बोलने से किसी की जान बचती है तो झूठ बोलना पाप नहीं।

       -प्रेमचंद

  • सत्य बोलें, प्रिय बोलें, किन्तु अप्रिय सत्य न बोलें। किसी के साथ व्यर्थ वैर और शुष्क विवाद न करें।

       -आचार्य मनु

  • अल्पभाषी सर्वोत्तम मनुष्य है।

        -महात्मा गांधी

  • अधिक देखें, अधिक सुनें, किन्तु बोलें कम।

       -गुरु नानक देव

  • जो आदमी तौलकर बात नहीं करता, उसे सख्त बात सुननी पड़ती है।

       -शेख सादी

  • शब्द से ही सृष्टि का उद्गम है और उसी में सृष्टि का विनाश और पुन: शब्द से ही सृष्टि की नई रचना होता है।

        -गुरु नानक देव

  • ‘शब्द’ से ही सृष्टि का उद्गम है और उसी में सृष्टि का विनाश और पुन: ‘शब्द’ से ही सृष्टि की नई रचना होता है।

        -गुरु नानक देव

  • सबकी बात ध्यान से सुनो परन्तु अपनी सलाह केवल थोड़े ही मनुष्यों को दो

        -शेक्सपियर

  • गूंगे ही बातूनों से ईर्ष्या करते हैं।

       -खलील जिब्रान

  • नम्रता और मीठे वचन ही मनुष्य का आभूषण हैं।

      -स्वामी विवेकानंद

  • जो अपने मुख और जिह्वा पर संयम रखता है, वह अपनी आत्मा को संतापों से बचाता है।

       -बाइबिल

  • ऐसा वचन न कहो, जो खुद को पसंद न हो।

        -कठोपनिषद्

  • वार्तालाप बुद्धि को मूल्यवान बना देता है, परन्तु एकान्त प्रतिभा की पाठशाला है।

        -गिबन

प्रिय पाठकों, आशा करता हूँ आपको यह लेख पसंद आई होगी। हम आगे भी ऐसे ही लेख हर रोज आपके लिए लाते रहेंगे। अगर आप भी लिखने के शौक़ीन हैं और अपने विचार दुनिया के कोने कोने तक पहुँचाना चाहते हैं तो आप इस वेबसाइट के द्वारा पहुंचा सकते हैं। अपने लेखों को आप हमारे ईमेल पता पर भेज सकते हैं। हमारा ईमेल पता हैं :- [email protected]

Thank You !

Also read here:- 

  1. विनम्रता पर सुविचार | Priceless thoughts on humility or Politeness
Rate this post
Sharing Is Caring:

नमस्कार दोस्तों, मैं "Raju Kumar Yadav" Blogger, Content Writer, Web Developer और YouTuber हूँ। आप हमारे इस ब्लॉग पर इनफार्मेशनल, प्रसिद्ध हस्तियाँ, मनोरंजन, सेहत और सुंदरता आदि पर आधारित लेखों को पढ़ सकते हैं।


Leave a Comment