Good Morning Refreshing Quotes | अनमोल विचारों के साथ दिन की शुरुआत

Good Morning Refreshing Quotes | अनमोल विचारों के साथ दिन की शुरुआत
Good Morning Refreshing Quotes | अनमोल विचारों के साथ दिन की शुरुआत

 

शब्द ब्रह्म है। भारतीय दर्शनों में शब्द को उत्तम प्रमाण माना गया है। इस संदर्भ में एक अत्यंत प्रचलित कथा का उल्लेख करना यहां युक्तिसंगत होगा। कथा इस प्रकार है:- Good Morning Refreshing Quotes

दस व्यक्तियों ने बरसाती नदी पार की। पार पहुंचने पर यह जांचने के लिए कि दसों ने नदी पार कर ली है, कोई नदी में डूब तो नहीं गया, एक ने गिनना शुरू किया। उसके अनुसार उनका एक साथी नदी में बह गया था। एक-एक करके सभी ने गिनती की, प्रत्येक का यही मानना था कि कोई एक बह गया है। सभी उस दसवें व्यक्ति के लिए रोने और विलाप करने लगे।

वहां से गुजर रहे एक बुद्धिमान व्यक्ति ने जब उनसे रोने तथा विलाप करने का कारण पूछा, तो उन्होंने उसे सारी बात कह सुनाई। उस व्यक्ति ने उनको एक पंक्ति में खड़ा होने को कहा। जब सब पंक्ति में खड़े हो गए, तब उनमें से एक को बुलाकर उसने गिनने को कहा। उस व्यक्ति ने नौ तक गिनती गिनी और चुप हो गया। तब आगंतुक ने कहा, ‘दसवें तुम हो।’ इतना सुनते ही सारा रोना-विलाप करना अपने आप, बिना किसी प्रयास के समाप्त हो गया। उस आगंतुक ने क्या किया? उसके शब्दों ने ही रोने-बिलखने को विदाई दिलवा दी।

ऐसे एक नहीं अनेक उदाहरण आपको मिल जाएंगे, जिनसे इस बात की पुष्टि होगी कि एक वाक्य ने किसी की जीवनधारा ही बदल दी।पाठकों, आज के इस लेख में हम बहुत से ऐसे अनमोल विचारों को आपके साझा कर रहे हैं जो आपके जीवन में सकारात्मक परिवर्तन लायेंगे। हम रोजाना एक ऐसे अनमोल सुविचारों पर आधारित लेख “अनमोलसोच डॉट इन” पर प्रकाशित करते हैं, जो विभिन्न महापुरुषों के द्वारा कहा गया है।

आशा करता हूँ आज का यह लेख आपको पसंद आएगा। ऐसे ही लेखों को पढने के लिए आप Bell notification को जरुर ऑन कर लें। अगर आप एक टेलीग्राम यूजर हैं तो हमारे टेलीग्राम चैनल से भी जुड़ सकते हैं, जहाँ आपको दैनिक सुविचार पर आधारीर Images मिलते रहेंगे।

Good Morning Refreshing Quotes:-

  • दीन दुःखी एवं पीड़ित बंधुओं की सेवा करने एवं उनके साथ मिल बांट कर रूखा-सूखा खाने में जो गौरव प्राप्त होता है, वह सभ्य समाज की दावतों में भी प्राप्त नहीं होता।

-प्रेमचंद

  • दुश्मन के साथ नेकी करना, रोगी की सेवा से छोटा काम नहीं है।

-प्रेमचंद

  • दीन दुःखियों की सेवा करना सबसे बड़ा धर्म है।

-स्वामी विवेकानंद

  • दुःखी ईश्वर में भक्ति रखता है आशा से, सुखी भय से दुःखी पर दुःख बढ़ता जाए तो उसकी भक्ति भी बढ़ती जाएगी। सुखी पर दुःख पड़े तो वह विद्रोह करने लगता है। वह ईश्वर को भी अपने धन के सामने झुकाना चाहेगा।

-प्रेमचंद

  • दूसरों की उन्नति करते हुए जो स्वयं भी उन्नति करे, वह महापुरुष है।

-अज्ञात

  • दिन का कर्तव्य पालन रात्रि का मधुर संगीत है।

-हर्बर्ट

  • दान एवं क्षमा प्रेम का आधार है। लेकर भूल जाना कृतघ्नता है। प्रेम निस्वार्थ है। स्वार्थ युक्त प्रेम छल है। वासना रहित प्रेम ही सुखी जीवन का आधार है।

-सत्य सांई बाबा

  • दूसरे लोगों की जेब से पैसे निकालने की अहिंसक कला भीख मांगना ।

-एम्सटर्डम

  • दान या उदारता की मुर्दों से अधिक जीवित लोगों को आवश्यकता है।

-अज्ञात

  • दुनिया में कोई भी वस्तु इतनी निश्चित नहीं है जितनी कर और मृत्यु ।

-बेंजामिन फ्रैंकलिन

  • दुनिया का इतिहास मनुष्य की अपनी प्रतिदिन की रोजी की तलाश का लिखित वर्णन है।

-एच. डब्ल्यू. वैनलून

  • दूर रहने पर भी सज्जनों का स्नेह नहीं जाता।

-सतवाहन

  • दोस्त बड़ा प्यारा शब्द था, साथी बड़ा प्यारा शब्द था, कामरेड बड़ा प्यारा शब्द था, ये शब्द इन्सान के साथ कितनी दूर तक चल सके। इन्सान चलता रहा, शब्द थक गए।

-अमृता प्रीतम

  • दयालुता का दिया जाना सबसे अधिक कठिन चीज है, लेकिन आमतौर पर यह वापिस दे दी जाती है।

-आर. प्लिन्ट

  • दुःख पुरुषार्थी की करवट है, सुख श्रम की परिणति का घर है।

-माखनलाल चतुर्वेदी

  • दूसरे के धर्म भले ही श्रेष्ठ मालूम पड़ें उन्हें ग्रहण करने में मेरा कल्याण नहीं है। सूर्य मेरे लिए वंदनीय है, परन्तु इसलिए यदि मैं पृथ्वी छोड़कर उसके पास जाना चाहूंगा तो जलकर खाक हो जाऊंगा।

-आचार्य विनोबा

  • दुनिया में मेरे लिए सबसे बड़ा निरंकुश शासक मेरी आत्मा की आवाज है।

-महात्मा गांधी

  • दुनिया की चीजों में सुख की तलाश फिजूल है। आनंद का खजाना तो तुम्हारे अन्दर है।

-स्वामी रामतीर्थ

  • देवगण आत्मा के शोर को नहीं, गहराई को पसंद करते हैं।

-वर्ड्सवर्थ

  • धर्म को कलंकित करना, उसे विकृत करने का प्रयास करना या फिर उसका अपमान करना, अत्यंत त्रासद है, इसकी भर्त्सना की जानी चाहिए।

-बिशप फू ताइशेन

  • देखो, बंधुत्व की भावना से, सम्मिलित होकर, एक सूत्र में बंधकर रहने में कितना आनंद है।

-बाइबिल

  • दूसरे के उपकार का विस्मरण उचित नहीं। पर दूसरे पर किए उपकार को उसी दम भूल जाना उचित है।

-तिरूवल्लुवर

  • दुष्ट के सामने झुकने वाला गृहस्थ दुनिया में दुष्टता को बढ़ाने का कारण होता है।

-स्वामी विवेकानंद

  • देश की एकता व अखंडता के लिए यह पहली शर्त यह है कि उसकी युवा शक्ति कितनी प्रखर और रचनात्मक है और उसका नेतृत्व कैसे लोगों के हाथों में है।

-जयप्रकाश नारायण

  • दुःख असम्भव की आशा का प्रतिफल है।

-स्वामी विवेकानंद

  • दूसरों की सद्भावना का आदर करना श्रेष्ठ पुरुषों का कर्तव्य है।

-मदनमोहन मालवीय

  • धर्मनियंत्रित राजनीति ही आदर्श राष्ट्र बना सकती है।

-विदुर

  • धन और ईश्वर में बनती नहीं। इसी कारण प्रभु का निवास गरीब के घर में होता है।

महात्मा गांधी

  • धर्म ही मनुष्य का सच्चा मित्र है, जो मृत्यु के बाद भी उसके साथ जाता है या फिर जीवित रहता है।

-मनुस्मृति

  • धर्म कभी पूर्णतः प्राप्त नहीं होता, पर अनवरत प्रयास करता है। प्रयास किए जाने की भावना उस चश्मे की तरह है जो सदैव उबलता रहता है, न कि पोखर जिसमें बदबू आती

-रोमन रोनेल्ड

  • धूर्तता और विश्वासशीलता के बीच समझदारी की आवाज घुट कर रह जाती है।

-बर्क

  • धर्म और शांति की चर्चा जरूरी नहीं कि गंभीरता का आवरण ओढ़कर ही की जाए। हंसते व खिलखिलाते उल्लास के साथ भी मानवता की समस्याओं का निदान ढूंढ़ा जा सकता है।

-टेड टर्नर


पाठकों आज के इस लेख में कोई त्रुटी रह गयी हो तो आप हमें जरुर बताएं।हम जितना जल्दी हो सकेगा उसमें सुधार करने का प्रयास करेंगे।


प्रिय पाठकों, आशा करता हूँ आपको यह लेख पसंद आया  होगा। हम आगे भी ऐसे ही लेख हर रोज आपके लिए लाते रहेंगे। अगर आप भी लिखने के शौक़ीन हैं और अपने विचार दुनिया के कोने कोने तक पहुँचाना चाहते हैं तो आप इस वेबसाइट के द्वारा पहुंचा सकते हैं। अपने लेखों को आप हमारे ईमेल पता पर भेज सकते हैं।


आप इसे भी अनमोलसोच पर पढ़ सकते हैं:-

sukhvinder singh sukhu biography in hindi | सुखविंदर सिंह सुक्खू का जीवन परिचय- 2022


आपके कीमती समय के लिए धन्यवाद्!

आप अपने दोस्तों के साथ Facabook व WhatsApp पर शेयर करें!

 

Rate this post
Sharing Is Caring:

नमस्कार दोस्तों, मैं "Raju Kumar Yadav" Blogger, Content Writer, Web Developer और YouTuber हूँ। आप हमारे इस ब्लॉग पर इनफार्मेशनल, प्रसिद्ध हस्तियाँ, मनोरंजन, सेहत और सुंदरता आदि पर आधारित लेखों को पढ़ सकते हैं।


Leave a Comment