आत्मविश्वास पर टॉप 31 सुविचार Quotes On Self Confidence

आत्मविश्वास पर टॉप 31 सुविचार  Quotes On Self Confidence

आत्मविश्वास (self-confidence) वस्तुतः एक मानसिक एवं आध्यात्मिक शक्ति है। आत्मविश्वास से ही विचारों की स्वाधीनता प्राप्त होती है और इसके कारण ही महान कार्यों के सम्पादन में सरलता और सफलता मिलती है। इसी के द्वारा आत्मरक्षा होती है। जो व्यक्ति आत्मविश्वास से ओत-प्रोत है, उसे अपने भविष्य के प्रति किसी प्रकार की चिन्ता नहीं रहती। उसे कोई चिन्ता नहीं सताती। दूसरे व्यक्ति जिन सन्देहों और शंकाओं से दबे रहते हैं, वह उनसे सदैव मुक्त रहता है। यह प्राणी की आंतरिक भावना है। इसके बिना जीवन में सफल होना अनिश्चित है।

आज के इस पोस्ट में आत्मविश्वास पर 31 सुविचारों का अनुसरण करेंगे। अगर आप पढने के शौक़ीन हैं तो “अनमोलसोच डॉट इन” का बिलकुल फ्री ईमेल सब्सक्रिप्शन ले सकते हैं।
  • आत्मविश्वास रखो कि तुम पृथ्वी पर सबसे महत्वपूर्ण हो ।

-गोर्की

  • आत्मविश्वास में वह अटूट शक्ति है, जिससे मनुष्य हजारों विपत्तियों का सामना अकेला कर सकता है। निर्धन मनुष्यों की सबसे बड़ी पूंजी और मित्र उनका आत्मविश्वास ही है। धनहीन होते हुए भी कितने ही मनुष्यों ने ऐसे काम किए हैं, जो धनवान कभी भी नहीं कर पाए।

-स्वेट मार्डेन

  • गुणों में आत्मविश्वास पैदा हो जाता है, यदि उनके लिए बड़े लोगों से सम्मान प्राप्त हो ।

-कालिदास

  • कठिन कार्य में सफल होने पर आत्मविश्वास बढ़ जाता है।

-प्रेमचंद

आप पढ़ रहे हैं:- आत्मविश्वास पर टॉप 31 सुविचार I Quotes On Self Confidence

  • कठिनाई और विरोध वह देसी मिट्टी है, जिसमें शौर्य और आत्मविश्वास का विकास होता है।

-जॉर्ज बर्नाड शॉ

  • आत्मविश्वासी समुद्र के मध्य जहाज नष्ट हो जाने पर भी तैर कर उसे पार कर लेता है।

-पंचतंत्र

  • आत्मविश्वास सरीखा दूसरा मित्र नहीं। आत्मविश्वास ही भावी उन्नति का मूल आधार है।

-स्वामी विवेकानंद

  • आत्मविश्वास सफलता का प्रथम रहस्य है।

-इमर्सन

  • आप अन्य चाहें जिस पर शक करें, स्वयं पर कदापि न करें।

-गोर्की

  • आत्मविश्वास का अर्थ है, अपने में काम में अटूट श्रद्धा

-महात्मा गाँधी

आप पढ़ रहे हैं:- आत्मविश्वास पर टॉप 31 सुविचार  Quotes On Self Confidence

  • जब तक हममें आत्मविश्वास है, तब तक हम संसार में कुछ भी करके दिखा सकते हैं।

-लोकमान्य तिलक

  • आत्मविश्वास सफलता का मुख्य रहस्य है।

-महात्मा गांधी

  • तुम ज्ञान को अमूल्य मानो, ज्ञान कर्म से प्राप्त होगा, अन्यथा जीवन में सदैव भटकाव रहेगा। भक्ति और सेवा से ज्ञान की प्राप्ति संभव है।

-महात्मा गांधी

  • आत्मविश्वास के बिना महान कार्य करने की जुर्रत न करें।

-जॉनसन

  • आत्मविश्वास, आत्मज्ञान और आत्म संयम- ये तीन ही जीवन को परम शक्ति संपन्न बना देते हैं।

-टेनीसन

  • तुम यदि ज्ञान के प्रकाश का दीपक बुझा दोगे, तो व्यावहारिक जिंदगी में एक कदम भी आत्मविश्वास से नहीं चल सकोगे।

-महात्मा गांधी

  • परीक्षा में खरे उतरने वालों में आत्मविश्वास सदा रहा है।

-इमर्सन

  • जाएं, अपने जहां भी आप आत्मविश्वास को साथ लेते जाएं।

-अज्ञात

  • सभी लोग तुम्हारे दुश्मन हो जाएंगे, यदि तुमने आत्मविश्वास खो दिया।

-चार्ल्स बर्नेट

  • सच्चा आत्मविश्वास पर्वतों को भी हिला देता है।

-महात्मा गांधी

  • यह आत्मविश्वास रखो कि आप धरती के सबसे आवश्यक इंसान हो।

-गोर्की

  • मेरी शक्ति दस लोगों की शक्ति के बराबर है क्योंकि मेरा हृदय पवित्र है। इस विश्वास का पोषण कर, लेकिन उजागर मत कर। टेनिस यह कभी न भूलो कि किसी भी कठिनाई का नतीजा अविश्वास नहीं है, क्योंकि अविश्वास से कठिनाई पैदा होती है।

-सेनेका

  • आत्मविश्वास सफलता की कुंजी है।

-स्वेट मार्डेन

  • परीक्षाएं तब तक कठिन मालूम होती है जब तक कि परिश्रम से, जी जान से और आत्मविश्वास से आप उसका मुकाबला नहीं करते।

-अज्ञात

Also Read Here:- 

जीवन पर आधारित बेहतरीन अनमोल सुविचार

सुविचार- जो बदल दे ज़िन्दगी|| PART- 1

सुविचार- जो बदल दे ज़िन्दगी || PART- 2

कर्म पर विभिन्न महापुरुषों के अपने-अपने विचार

  • पुरातन धर्म कहता है, जो ईश्वर में विश्वास न रखे वह नास्तिक है। मेरा धर्म कहता है कि नास्तिक वह है जो स्वयं पर विश्वास न करे।

-स्वामी विवेकानंद

  • जो साहित्य मनुष्य समाज को रोग, शोक, दरिद्र, अज्ञान तथा परमुखापेक्षिता से बचाकर उसमें आत्मबल का संचार करता है, वह निश्चय ही अक्षय-निधि है।

-हजारी प्रसाद द्विवेदी

  • अपने आत्मविश्वास और चरित्र के बल पर एक साधन रहित व्यक्ति भी महान सफलता प्राप्त कर सकता है।

-स्वेट मार्डेन

  • आत्मविश्वास का अभाव ही सभी अंधविश्वासों का जनक है।

-आचार्य रजनीश

  • आत्मविश्वास ही भावी उन्नती की प्रथम सीढ़ी है। अतः सर्वप्रथम आत्मविश्वास करना सीखो।

-स्वामी विवेकानन्द

  • जो आत्मा से ही परिचित नहीं, उसमें आत्मविश्वास कैसे हो सकता है ?

-वेदान्त तीर्थ

पाठकों, आशा करता हूँ आपको यह लेख पसंद आई होगी। हम आगे भी ऐसे ही लेख हर रोज आपके लिए लाते रहेंगे। अगर आप भी लिखने के शौक़ीन हैं और अपने विचार दुनिया के कोने कोने तक पहुँचाना चाहते हैं तो आप इस वेबसाइट के जरिये कर सकते हैं। अपने लेखों को आप हमारे ईमेल पता पर भेज सकते हैं. हमारा ईमेल पता हैं :- [email protected]

Rate this post
Sharing Is Caring:

नमस्कार दोस्तों, मैं "Raju Kumar Yadav" Blogger, Content Writer, Web Developer और YouTuber हूँ। आप हमारे इस ब्लॉग पर इनफार्मेशनल, प्रसिद्ध हस्तियाँ, मनोरंजन, सेहत और सुंदरता आदि पर आधारित लेखों को पढ़ सकते हैं।


Leave a Comment