What is Ransomware virus effects | रैंसमवेयर वायरस का प्रभाव व बचने का तरीका अभी जानें

What is Ransomware virus effects | रैंसमवेयर वायरस का प्रभाव व बचने का तरीका अभी जानें

What is Ransomware virus effects: नमस्कार पाठकों, इस डिजिटल युग ने आज हमें जितना कुछ दिया है उसे हम कभी जीते जी भुला नही सकते। क्योंकि इसने हमें कुछ अच्छा तो कुछ बुरा दिया है, कुछ से हमें फायदें हैं तो कुछ से नुकसान। जी हाँ हम आज बात कर रहे हैं  रैंसमवेयर वायरस के बारे में। जैसा की आपको नाम से ही पता चल गया होगा की यह कितना खतरनाक वायरस है, जिसने पूरी दुनिया के साथ-साथ भारत में भी तहलका मचा कर रख दिया है।

Table of Contents

Ransomware के बारे में अगर हम सरल भाषा में समझना चाहें तो यह एक कंप्यूटर प्रोग्राम या सॉफ्टवेर की तरह है, जो हमारे सिस्टम में या स्मार्टफोन में अपने आप ही लोड हो जाता है। जब भी आप अपने कंप्यूटर या फोन को ऑन करने जाते हैं तो आपके सामने एक एक नया पेज खुल जाता है और आपसे पैसे की मांग की जाती है या यूँ कह सकते हैं की फिरौती की मांग की जाती है। आज के इस “What is Ransomware virus effects” टॉपिक में इसी वायरस के बारें में सम्पूर्ण जानकारी को प्राप्त करेंगे। आप इस जानकारी के बारें में अपनी राय लेख के अंत में कमेंट बॉक्स में जरुर लिखें।

What is Ransomware virus effects
What is Ransomware virus effects | रैंसमवेयर वायरस का प्रभाव व बचने का तरीका अभी जानें

रैनसमवेयर का मतलब क्या है? (What is the meaning of ransomware)

रैंसमवेयर एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो हैकर्स के द्वारा बनाया गया है. यहीं अगर हम इसके शाब्दिक अर्थ के बारें में बात करें तो यह दो शब्दों से मिलकर बना है, जहाँ रैनसम का अर्थ होता है- फिरौती और वेयर का अर्थ होता है प्रोग्राम या सॉफ्टवेयर. इस प्रकार से इस वायरस का साधारण अर्थ हुआ फिरौती मांगने वाला सॉफ्टवेयर.

एक ऐसा कंप्यूटर प्रोग्राम जो फिरौती अथवा पैसों की मांग करता है उसे रैनसमवेयर वायरस कहते हैं.

रैनसमवेयर एक कंप्यूटर मैलवेयर है जो हमारी कंप्यूटर या स्मार्टफोन में प्रवेश कर जाता है और हमारे सिस्टम का सारा एक्सेस अपने हाथ में कर लेता है, जिसके बाद वह फिरौती का मांग करने लगता है. फिरौती नही देने पर यूजर ना तो अपने डाटा को एक्सेस कर सकता है और ना ही लॉग इन हो पता है. यह मैलवेयर अबतक के खतरनाक वायरसों में से एक है.

रैनसमवेयर वायरस का प्रकार? (Types of Ransomware)

अभी तक प्राप्त जानकारी के अनुसार अगर हम रैनसमवेयर वायरस के प्रकार की बात करें तो यह दो प्रकार का होता है. 1. क्रिप्टो रैनसमवेयर और 2. लाकर रैनसमवेयर. अब हम एक एक करके इन दोनों प्रकार के वायरस के बारे में विस्तार से जानते हैं.

क्रिप्टो रैनसमवेयर (Crypto Ransomware)

दोस्तों, यह वायरस बहुत ही ज्यादा घातक साबित होते हैं. इनका सबसे बड़ा दुषप्रभाव यह होता है की ये जैसे hi आपके सिस्टम में प्रवेश करते हैं आपके डाटा व् फाइल्स को एन्क्रिप्ट कर देते हैं और उसे वापिस से डिक्रिप्ट करने के लिए पैसे व फिरौती की मांग करने लगते हैं.

जबतक उन्हें फिरौती मिल नही जाता तब तक “एन्क्रिप्ट की” को यूजर को प्रोवाइड नही करते हैं. इस प्रकार से यह क्रिप्टो रैनसमवेयर यूजर को पैसे देने के लिए मजबूर कर देते हैं और विक्टिम को पैसा देना पड़ता है.

लॉकर रैनसमवेयर (Locker Ransomware)

लॉकर रैनसमवेयर क्रिप्टो रैनसमवेयर वायरस की तुलना में काफ़ी खतरनाक होता है. हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि यह आपके पुरे कंप्यूटर या स्मार्टफोन को ही लॉक कर देता है. आपके पास आपके सिस्टम का कोई एक्सेस ही नही रहता है. यूजर के सिस्टम पर एक “पे टू अनलॉक” का एक सन्देश दीखता है, जिसका साफ साफ यह मतलब होता है की सिस्टम को अनलॉक करने के लिए पैसे दो तभी आपका सिस्टम अनलॉक हो पायेगा. इसके अलावा फिरौती को देने की एक समय सीमा भी होती है की आपके इतने समय के अन्दर पैसो को देना है.

अगर यूजर तय समय के अन्दर फिरौती को नही देता है तो हैकर्स फिरौती की राशी को बढाकर दोगुना या तिगुना कर देते हैं या उनके व्यक्तिगत डाटा को सार्वजनिक कर देते हैं. ऐसे में मजबूर होकर विक्टिम को फिरौती की राशी चुकानी पड़ती है.

What is Ransomware virus effects | रैंसमवेयर वायरस का प्रभाव व बचने का तरीका अभी जानें

इस वायरस का सबसे बड़ा दुस्प्रभाव बैंकिंग सेक्टर्स और अस्पतालों पर पड़ा है. इस वायरस प्रभावित कुछ उदाहरण इस प्रकार है:

रूस के बैंकिंग सेक्टर के कंप्यूटर, ब्रिटिश अस्पताल और फ़्रांस की कार निर्माता कंपनी रीनॉल्ट की कंप्यूटर्स. आज के इस डिजिटल युग में इस तरह के वायरस अटैक के बदले फिरौती की मांग करने की घटना को सबसे बड़ा साइबर अटैक माना जा रहा है. साइबर सिक्यूरिटी कंपनी हेलसिंकी के मुख्य अधिकारी मिक्को हय्पोंने के अनुसार भारत और रूस में रैनसमवेयर का सबसे ज्यादा प्रभाव देखने को मिल रहा है, क्योंकि इन दोनों देशों में अभी माइक्रोसॉफ्ट के पुराने विंडोज XP का उपयोग बैंकिंग सेक्टर्स में हो रहे हैं. आगे हम जानेंगे की इस वायरस से भारत के कौन-कौन से राज्य प्रभावित हुए हैं.

रैनसमवेयर वायरस से प्रभावित भारत के राज्य (Ransomware Effect in India)

दोस्तों रैनसमवेयर वायरस का प्रभाव भारत देश पर भी पड़ा है और भारत के कई राज्य इस वायरस की चपेट में आये हैं. आगे हम सभी राज्यों के बारे में एक एक करके के जानेंगे. वैसे आपको यह जानकारी कैसी लग रही है आप हमें कमेंट बॉक्स में जरुर लिखें.

महाराष्ट्र (Maharashtra): इस वायरस से महाराष्ट्र पुलिस विभाग का कंप्यूटर आधारित डाटा का एक बहुत ही छोटा सा हिसा प्रभावित हुआ था. समय रहते ही सुझबुझ के साथ इस पर काबू पा लिया गया. महाराष्ट्र पुलिस ने लोगों को जानकारी देते हुए बताया की हैकर्स के दौरा मांग की गयी किसी भी तरह की राशी की भुगतान न करें.

गुजरात(Gujarat):  गुजरात सरकार की सुचना प्रधोगिकी (GSWAN) से सम्बंधित विभिन्न सरकारी विभागों के लगभग 120 कंप्यूटर रैनसमवेयर वायरस के चपेट में आये हैं. हलाकि इस वजह से किसी महत्वपूर्ण डेटा का नुकसान नही हुआ है. गुजरात सरकार की सुचना व प्रधोगिकी विभाग इस तरह के अटैक से बचने के लिए अपने ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर को अपग्रेड कर रही है और एंटीवायरस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल कर रही है. इसके अलावा बंगाल और आंध्रप्रदेश राज्य भी इस वायरस की चपेट में आये हैं.

रैनसमवेयर (Ransomware Virus) को रोकने का तरीका व् सावधानियां (Ransomware Virus Protection in Hindi)

दोस्तों, अगर आप भी इस ख़तरनाक वायरस से बचना चाहते हैं तो आपकों निचे में कुछ उपाय बता रहा हूँ, जिसकों ध्यान में रखकर आप इस वायरस से बाख सकते हैं. आइये जानते हैं:

  • दुनिया की सबसे बड़ी ऑपरेटिंग सॉफ्टवेयर कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने इस मैलवेयर से बचने के लिए लोगों को जानकारी देते हुए बताया की आपको किसी भी अनजान व संधिग्ध ईमेल प्राप्त हो तो उसे ओपन ना करें और ना ही उस ईमेल का रिप्लाई दें. जितना जल्दी हो सके बिना देरी किये उस स्पैम ईमेल को डिलीट कर दें. साथ ही एंटीवायरस उपयोग करने की सलाह दी है.
  • अपने कंप्यूटर या स्मार्टफोन की बैकअप को लेकर अपने पास रख लें क्योंकि अगर आपका सिस्टम रैनसमवेयर वायरस से इफेक्टिव हो जाता है तो आप उस्मेउइन चाहकर भी कुछ नही कर सकते हैं.
  • किसी भी तरह के स्पैम्मी वेबसाइट को विजिट ना करें, जिस वेबसाइट में “https” ना हो उसकों गलती से भी क्लिक ना करें.
  • अपने ब्राउज़र में आने वाले फालतू के पॉपअप को बंद करके रखें.
  • हम अक्सर कई बार अपना इन्टरनेट डेटा को बचाने के लिए सिस्टम अपडेट को ऑफ करके रखते हैं, जो की घातक हो सकता है. अपने सिस्टम को हमेशा ऑटो अपडेट पर रखें ताकि जब भी विंडोज का कोई सिक्यूरिटी अपडेट आये आपका सिस्टम अपडेट हो जाये.

रैंसमवेयर वायरस से बचने के लिए टॉप 10 एंटीवायरस (Top 10 Antivirus to Avoid Ransomware Virus)

01

McAfee® Total Protection

02

Norton™ 360

03

Bitdefender Antivirus Plus

04

KasperskyAnti-Virus

05

Panda Dome Security Suite

06

TotalAV Antivirus

07

Surfshark Antivirus

08

Avira Antivirus

09

ESET NOD32

10

Trend Micro

FAQs

Q.1 रैनसमवेयर का मतलब क्या है?

Ans. रैनसमवेयर एक प्रकार का सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो फिरौती मांगने के लिए बनाया गया है. इसे इस तरह से डिजाईन किया गया है की यह आपके सिस्टम के सभी फाइल्स को एन्क्रिप्ट कर देता है.

Q.2 रैंसमवेयर अटैक के दौरान क्या होता है?

Ans. जब आपके सिस्टम पर इस वायरस का अटैक होता है तो आपके सिस्टम का सारा कंट्रोल हैकर्स के हाथों में चला जाता है और आपसे फिरौती की मांग की जाती है. और अधिक पढने के लिए हमारे वेबसाइट को विजिट करें!

Q.3 क्या रैंसमवेयर वाईफाई से फैल सकता है?

Ans. जी हाँ, यह वायरस वाईफाई के इस्तेमाल से भी फ़ैल सकता है. अधिक जानकारी के लिए हमारी साईट विजिट करें!

Q.4 फिरौती मांगने के लिए कौन से वायरस का निर्माण किया गया?

Ans. फिरौती मांगने के लिए रैनसमवेयर वायरस का निर्माण किया गया है.

आप इसे भी पढ़ सकते हैं:

कब्ज़ का उपचार, कब्ज़ का होम्योपैथिक व आयुर्वेदिक रामबाण उपचार ( Treatment of Constipation)

Drishyam 2 Review in Hindi: ऐसी फिल्म जिसे देखने के बाद आपके रोंगटे खड़े हो जाए

रैनसमवेयर वायरस को विडियो के द्वारा समझें

आशा करता हूँ रैनसमवेयर वायरस के बारे मैं पूरी जानकारी दे पाया हूँ, अगर इस लेख के बारे में आपका कोई सुझाव या राय हो तो आप हमें कमेंट बॉक्स में जरुर लिखें, हम उसमें जल्द-से-जल्द सुधार या बदलाव करने की कोशिश करेंगे. इस लेख को पढने के लिए आपको बहुत बहुत धन्यवाद्!

🙂

5/5 - (2 votes)
Sharing Is Caring:

नमस्कार दोस्तों, मैं "Raju Kumar Yadav" Blogger, Content Writer, Web Developer और YouTuber हूँ। आप हमारे इस ब्लॉग पर इनफार्मेशनल, प्रसिद्ध हस्तियाँ, मनोरंजन, सेहत और सुंदरता आदि पर आधारित लेखों को पढ़ सकते हैं।


Leave a Comment